भारत में बिना पेट्रोल डीजल की कारें चलेंगी, सरकार ने तैयार कर ली है ब्‍लूप्रिंट

63

आने वाले समय में देश की सड़कों में दौड़ने वाली कारों ने न तो पेट्रोल की जरूरत होगी और न डीजल की। सरकार ने इसे अमली जामा पहनाने के लिए ब्‍लू प्रिंट तैयार कर ली है। भारत सरकार 2030 तक देश में केवल इलेक्ट्रिक कार ही चाहती है। इसके लिए भारत सरकार का कहना है कि सरकार ये चाहती है कि उसके यहां पर साल 2030 तक केवल इलेक्ट्रिक कारें ही बिकें। बताया जा रहा है कि भारत सरकार के उठाए जाने वाले इस कदम के पिछे मकसद इतना है कि इस समय गाड़ियों को चलाने में होने वाले खर्च और देश के ईंधन आयात बिल में कमी करना चाहती है।

इसके बाद गोयल ने कहा कि हम बड़े पैमाने पर इलेक्ट्रिक गाड़ियां पेश करने जा रहे हैं और इसके आगे कहा कि हम यह मान सकते हैं कि साल 2030 तक भारत में एक भी पेट्रोल या डीजल की कार नहीं होगी या ऐसी कारें नहीं बिकनी चाहिए। इसके आगे गोयल ने कहा कि शुरू में सरकार इलेक्ट्रिक कारों के लिए मदद भी कर सकती है ताकि देश में इस तरह की कारों को स्थिर किया जा सके। आगे उन्होंने बताया कि सरकार ने देश की सबसे बड़ी कार कंपनी को भी शुरू में मदद की थी जिसके कारण ही देश में इतने विशाल ऑटोमोटिव उद्योग की नींव पड़ी।

आपको बता दें कि मारूति ने इस साल कुल 30 प्रतिशत से अधिक का मुनाफा कमाया है। आगे गोयल ने यह भी बताया कि भारी उद्योग मंत्रालय व नीति आयोग इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रोत्साहन के लिए एक नीति बनाकर उस पर काम कर रहा है। आगे गोयल ने यह भी कहा है कि इलेक्ट्रिक कारों को चलाने में कम से कम खर्च होना चाहिए और कारें सस्ती भी होनी चाहिए तभी तो लोग इन्हें खरीद पाएंगे।

80%
Awesome
  • Design

You might also like More from author

Comments

Loading...