Technology in Hindi, Hindi mobile news, Hindi News app, movie review in Hindi

EVM में है World Best Tech & Firm Security, Hack करना मुमकिन नहीं

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) की विश्वसनीयता

111

India में Free and fair election कराने की Indicator बनी Excellent Indian discovery इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) की विश्वसनीयता पर हाल ही में आए चुनावी नतीजों के बाद सवाल उठाए जा रहे हैं।

तो क्या अचानक ये मशीनें विफल हो गयी और किसी ने कभी इन्हें Hack किया? Best Tech & Firm Security के साथ बनायी गयी EVM को कभी किसी ने Hack नहीं किया। अगर कहीं समस्या है तो वह Political values में हो रही कमी में है।

Election Commission और SC ने EVM को Completely safe बताया

स्वतंत्र तौर पर काम करने वाले India के Election Commission ने EVM पर पूरा भरोसा जताया और उसे Completely safe बताया है। उसने EVM में छेड़छाड़ या गड़बड़ी के आरोपों को Completely dismissed कर दिया है।

India के Election Commission के अनुसार, अब तक राज्यों के 107 चुनाव और तीन संसदीय चुनावों में इन EVM का उपयोग किया गया है। वर्ष 2014 के संसदीय चुनाव में इन EVM की Million units का उपयोग किया गया था और परिणामों को ईमानदार बताते हुए इनकी सभी ने सराहना की थी।

Brazil, Norway, Germany, Venezuela, India, Canada, Belgium, Romania, Australia, UK, Italy, Ireland, European Union and France जैसे कुछ देश ही Voting machine का इस्तेमाल कर रहे हैं लेकिन US जैसा दुनिया का सबसे पुराना लोकतांत्रिक देश Ballot paper का ही इस्तेमाल कर रहा है।

वही वोटिंग मशीन विफल हो रही हैं और Hacking के लिहाज से संवेदनशील है जो Internet से जुड़ी हैं।

विशिष्ट तौर पर भारतीय वोटिंग मशीन Internet से जुड़ी नहीं है और इन्हें Modern India की सबसे बेहतरीन खोज माना जाता है। उस मामले में Hacking easy हो जाती है जब मशीन Internet से जुड़ी हों और डेटा को Internet के जरिये भेजा जा रहा हो।

वर्ष 2014 में देशभर में 930,000 मतदान केन्द्रों में 14 लाख EVM का इस्तेमाल किया गया। सार्वजनिक क्षेत्र की दो कंपनियां India Electronic Limited, Bangalore and Electronic Corporation of India Limited, Hyderabad इन EVM की निर्माता कंपनी है। Voting Data को एक Simple imported chip में record किया जाता है जो बहुत छोटी होती है और EVM में पड़ने वाला every vote direct chip में record हो जाता है।

ये मशीन काफी मजबूत है। अगर chip से खुद ही डेटा नष्ट हो जाता है तो बैटरी खत्म होने या अचानक बिजली चले जाने के बाद भी Data recovery कर सकते हैं। vote को और अधिक निष्पक्ष बनाने के लिए Paper audit trials भी धीरे-धीरे शुरू किया जा रहा है जिसमें मतदाता को vote verification करने वाली slip भी मिलेगी।

Chip बनाने वालों को भी यह पता नहीं होता कि गांधीनगर से लेकर गुवाहाटी तक कहां इसका इस्तेमाल किया जाएगा। यह सुनिश्चित करने के लिए कि मशीन में कोई छेड़छाड़ ना की जाये, इसमें कई चरणों की सील लगायी जाती है जिससे किसी भी व्यक्ति के लिए यह पता लगाना नामुमकिन है कि किस निर्वाचन क्षेत्र में किस मशीन का इस्तेमाल किया जाएगा।

Chief election commissioner नसीम जैदी ने कहा, “भारतीय मशीन पूरी तरह से सुरक्षित हैं और कोई भी यह नहीं दिखा पाएगा कि EVM में छेड़छाड़ की जा सकती है।” यहां तक कि मशीन की विश्वसनीयता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवायी करने वाले Supreme court ने भी कहा कि EVM विश्वसनीय और सुरक्षित हैं।

Comments
Loading...