Facebook रोकेगा लोगों को suicide करने से, जोड़ा गया नया फीचर

Facebook suicide prevention tools

103

Facebook एक ऐसा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म है, जिसका दुनियाभर में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाता है। हालांकि Facebook पर suicide prevention tools पिछले दस साल से है पर अब कंपनी ने इसे यूजर्स के लिए और भी सुरक्षित व फायदेमंद बनाने के लिए इसमें Artificial Intelligence (AI) का प्रयोग किया है। ये कहना गलत नहीं होगा कि कुछ समय पहले Facebook से जुड़ी आत्महत्या की घटनाओं को ध्यान में रखते हुए कंपनी ने इस suicide prevention tools में नई तकनीक जोड़ना जरूरी समझा और अब इसपर आधारित टूल लेकर आई है।

Facebook  का नया suicide prevention tools ऐसे काम करेगा

कंपनी ने हाल ही में इससे जुड़ा एक ब्लॉग पोस्ट भी जारी किया है, जिसमें कहा गया है कि ”एक्सपर्टस से मिले फीडबैक के आधार पर हम स्ट्रीमलाइन्ड रिपोर्टिंग प्रोसेस पर काम कर रहे हैं, जिसमें पुराने ऐसे पोस्ट्स की पहचान की जा रही है, जो अधिकतर सुसाइड से जुड़े हुए थे। हमारी आर्टिफिशयल इंटेलीजेंस तकनीक सुसाइड या सेल्फ इंजरी वाले पोस्ट्स को मुख्य रूप से पहचानकर उन्हें रिपोर्ट करेगा।”

इसके साथ ही Facebook का ये भी कहना है कि वो इस नए टूल को Facebook लाइव और मैसेंजर से भी जोड़ेगी। इससे यदि आप किसी से चैट कर रहे हैं और आपको लगता है कि वो व्यक्ति खुद को कोई नुकसान पहुंचा सकता है तो वहां लाइव चैट सपोर्ट का फीचर दिया गया है, जिसका प्रयोग करने पर, Facebook से जुड़े किसी एक क्राइसिस सपोर्ट ऑर्गेनाइजेशन के पास मदद का संदेश पहुंच जाएगा।

नये फीचर से फेसबुक के जरिए मिलेगी मनचाही नौकरी

दरअसल Facebook ने इसमें नए एलगोरिदम्स का प्रयोग किया है, जिससे Facebook यूजर के ऐसे पोस्ट्स को ट्रैक करेगा जिससे ऐसे लगे कि वह व्यक्ति आने वाले समय में खुद को नुकसान पहुंचा सकता है। जैसे यदि किसी ने ऐसा पोस्ट किया है कि वह जीना नहीं चाहता या किसी दोस्त द्वारा पूछा गया कि क्या तुम ठीक हो तो ये उसके आधार पर काम करना शुरू कर देगा।

यूजर्स की मदद के लिए Facebook ने नेशनल इटिंग डिस्ऑर्डर एसोसिएशन और नेशनल सुसाइड प्रिवेंशन लाइफलाइन आदि से साझेदारी की है। फिलहाल ये नया फीचर अमेरिका में टेस्ट किया जा रहा है, वहीं आने वाले समय में कंपनी इसे दुनियाभर में प्रयोग के लिए 70 ऑर्गेनाइजेशंस के साथ मिलकर काम करने का प्लान कर रही है।

You might also like More from author

Comments

Loading...