Technology in Hindi, Hindi mobile news, Hindi News app, movie review in Hindi

रंगून मूवी रिव्‍यू : प्‍यार और वार का तड़का

71

विशाल भारद्वाज निर्देशित फिल्म रंगून ठीक वैसा ही इस फिल्म का अलग सा ट्रीटमेंट है। फिल्म देखने जाने से पहले हम दर्शकों के लिए इस फिल्म से जुड़ी कुछ ख़ास बातें लेकर आये हैं।
सैफ अली ख़ान, शाहिद कपूर और कंगना रनौत के एक्ट वाली ये फिल्म अपने आप में एक ऐसा कहानी है जिसमें वार भी है और प्यार भी। अब इनमें से कौन किस पर भारी पड़ता है ये फिल्म की रिलीज़ के बाद ही पता चलेगा।

11 साल पहले बनने वाली थी रंगून-
विशाल भारद्वाज ने साल 2006 में ओमकारा की रिलीज़ के बाद ही इस फिल्म को बनाने का फैसला किया था और तब इसका नाम जूलिया था। लेकिन फिल्म किसी वजह से शुरू ही नहीं हो सकी। साल 2015 में 18 नवम्बर को रंगून टाइटल के साथ इस फिल्म की शूटिंग शुरू हुई और फिल्म के ज़्यादातर हिस्सों को अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर में शूट किया गया।

प्यार से ज़्यादा इंटिमेसी हुई हिट –
रंगून वैसे तो 1944 यानि वर्ल्ड वॉर 2 के दौरान की कहानी है जब भारत अपनी आजादी को लेकर आंदोलन के उफान पर था। लेकिन विशाल भारद्वाज ने फिल्म को ट्रेंगिल लव स्टोरी की तरह ट्रीट किया है। अब तक के प्रोमो और गानों के हिसाब से ये उस मिल जूलिया ( कंगना रनौत ) की कशमकश की भी कहानी है जो सोल्जर नवाब मलिक ( शाहिद कपूर ) और बेहद स्टाइलिश अमीर रुस्तम रुसी बिलिमोरिया ( सैफ अली खान ) के बीच फंसी दिखती है। फिल्म के प्रोमो में शाहिद और कंगना के इंटिमेट सीन्स और किसिंग की भरमार दिखी है।

छोटी हो गई फिल्म –
हालांकि इसको लेकर कोई ऑफिशियल बयान नहीं आया है लेकिन बताया जा रहा है कि सेंसर ने रंगून को यू/ए सर्टिफिकेट देने के साथ फिल्म के करीब 70 शॉट्स को हटाने को कहा है और इस कारण रंगून को 13 मिनिट कम करना पड़ा है। सेंसर सूत्रों के मुताबिक पहले दो घंटे 47 मिनिट लंबी इस फिल्म का अब एक्चुअल रनिंग टाइम दो घंटे 34 मिनिट है।

विवाद –
कुछ दिनों पहले रंगून तब कानूनी पचड़ों में फंस गई जब जेबीएच वाडिया के ग्रैंडसन और कंपनी के एमडी रॉय वाडिया ने आरोप लगाया है कि फिल्म रंगून में कंगना रनौत का किरदार जूलिया आस्ट्रेलिया की एक्ट्रेस मेरी इवांस पर आधारित है जिन्हें फियरलेस नाडिया के नाम से जाना जाता था। उन्होंने दावा किया है कि नाडिया की फिल्मों से जुड़े पोस्टर , पब्लिसिटी मैटेरियल और स्क्रिप्ट पर उनकी कंपनी का एकाधिकार है। रंगून में कंगना के जूलिया किरदार को नाडिया की तरह पेश किया गया है जो कॉपी राइट कानून का उल्लंघन है। मामले अदालत में है जिसकी सुनवाई होनी है।

कलाकारों को यूनिक कॉम्बिनेशन –
एेसा पहली बार हो रहा है जब सैफ, शाहिद और कंगना एक साथ बिग स्क्रीन पर नज़र आएंगे। इनमें से कोई भी किसी के साथ पहले कभी नहीं नज़र आया। विशाल के साथ शाहिद ने पहले हैदर में काम किया था और सैफ ने ओमकारा में। पर कंगना इस खेमे में पहली बार आई हैं और इससे पहले भी उन्होंने न कभी शाहिद के साथ काम किया और ना ही सैफ के साथ। फिल्म की कास्टिंग के समय इस कॉम्बिनेशन को लेकर खूब चर्चाएं थी और खास कर सैफ और शाहिद के साथ काम करने की। वज़ह करीना है ये बताने की जरुरत नहीं है।

क्या है उम्मीद –
निर्माता साजिद नाडियाडवाला के इस फिल्म के जुड़ने के बाद से ही ये समझा जा रहा था कि इस फिल्म को ना सिर्फ ग्रैंड प्रमोशन मिलेगा बल्कि अच्छे खासे थियेटर भी। करीब 70 करोड़ में बनाई गई इस फिल्म को लेकर एक्सेप्टेशंस काफी हाई हैं। और इसका सबसे बड़ा कारण है फिल्म के लिए दूर तक मैदान का साफ़ होना। रंगून के साथ नाना पाटेकर और माही गिल स्टारर फिल्म वेडिंग एनिवर्सरी जैसी छोटे बजट की फिल्म रिलीज़ हो रही है। यही नहीं अगले हफ्ते भी कमांडो 2, आ गया हीरो और जीना इसी का नाम जैसी फिल्में है। मतलब रंगून को 10 मार्च को रिलीज़ होने वाली बद्रीनाथ की दुल्हनिया से पहले किसी बड़ी फिल्म से मुकाबला नहीं करना है। रंगून को करीब 3000 स्क्रीन्स मिलने की उम्मीद है। ट्रेड पंडितों ने रंगून के लिए सात से नौ करोड़ की ओपनिंग लगने का अनुमान लगाया है। मझे हुए सितारों और विशाल भारद्वाज के ट्रीटमेंट की भी अपनी फैन फ्लोविंग है।

 

Comments
Loading...