सनी पवार को Lion ने बनाया स्‍लम ब्‍वाय से हॉलीवुड स्‍टार

8 साल का सनी पावर ऑस्‍कर में नाम कमाया

116

सनी पवार की पहचान कल तक मुंबई के स्‍लम का एक 8 साल के दलित बच्‍चे के तौर पर थी, जिसे कुछ लोग ही जानते थे, पर आज उसे लोग एक ऐसे हॉलीवुड स्‍टार के तौर पर होग गई है जो दुनिया के सबसे बड़े सिनेमा अवॉर्ड ऑस्‍कर में शिरकत कर चुका है। सनी पवार ने लायन मूवी में अहम किरदार निभाया जो ऑस्‍कर अवार्ड के लिए नोमिनेट किया गया। इसके साथ ही सनी का नाम लोगों की जुबान पर छा गया।

मुंबई के स्लम एरिया में रहने वाले आठ वर्षीय Sunny Pawar ने भी अपने कोमल आँखों में सपना देखा और रोज उसमें जीता। कुछ वक्त बाद ही  ऊपरवालें ने उसकी सुन ली और Sunny Pawar को Indian Television का टिकट नहीं, बॉलीवुड का भी नहीं, बल्कि उसे सात समुन्द्र पार हॉलीवुड का टिकट दे डाला।

छोटे से सनी ने भी अंग्रेजों को अपने क्यूटनेस से ऐसा दीवाना बनाया गया कि, ऑस्कर अवार्ड्स फंकशन में हर कोई उनके साथ खेलने और उन्हें छूने के लिए लालायित नजर आ रहा था। एक स्लम एरिया से निकले Lion Film के इस हीरों की Hollywood तक की पहुँचने की कहानी बड़ी ही दिलचस्प है, जिसे इस Hindi Biography द्वारा जानते है।

सनी पवार के Parents

Sunny Pawar का जन्म मुंबई के स्लम एरिया में हुआ था। उनके पिता दिलीप पवार है, जो पूर्व सरकारी ऑफिसर के घर पर सफाई का काम करते है। सनी की माँ वासू पवार हाऊस वाइफ़ है। परिवार में माँ-बाप के अलावा सनी का एक छोटा भाई और एक छोटी बहन भी है। उनका पूरा परिवार एक छोटे से रूम रहता है। उनके पिता मुश्किल से 10 हजार रुपये महीने कमा पाते है। इसी से उनके परिवार का गुजारा जैसे-तैसे चलता है।

Childhood & Education

फिर भी सनी के सपने शुरू से बड़े थे। वो कहते है, मैं बड़ा होकर टीवी में काम करना चाहता हूँ। तब उनकी माँ उन्हें समझते हुए कहती है, वह एक अलग दुनिया है। वहाँ पहुँच पाना बहुत मुश्किल है।

स्‍लम ब्‍वाय सनी ऐसे बना हॉलीवुड स्‍टार

पर कहते हैं, जहां चाह है, वहाँ राह बन ही जाती है। वे Government Air India Modern School में पढ़ाई करते थे। एक दिन Lion फिल्म की कास्टिंग टीम स्कूल पहुंची। कई बच्चों का Audition लिया गया। जिसमें सनी का भी लिया गया और Luckily उन्हें 2000 बच्चों में चुन लिया गया। 10 हजार रुपये महीने कमाने वाले सनी के पिता को यकीन ही नहीं हुआ।

बरहाल उन्होंने अपने बेटे की विदेश यात्रा के लिए पूरा पैसा लगा दिया। आखिरकार आठ वर्षीय एक आम भारतीय बच्चा, जिसे हिन्दी और मराठी के अलावा कुछ भी नहीं आता था, सात समुन्द्र दूर हॉलीवुड में जा पहुंचा।

Hollywood Popularity

वहाँ English Translator की मदद से Lion नामक फिल्म में सारू नाम के बच्चे की जोरदार भूमिका निभाया। जिसके सभी कायल हो गए। इसकी एक झलक Oscar Awards 2017 के फंक्शन में देखा गया, जहां वे अपने क्यूट लुक के लिए हर मुमेंट में छाए रहे, यहाँ तक उनकी फिल्म Lion ने भी Best Film, Best Supporting Actor और Best Supporting Actress के लिए 6 ऑस्कर नॉमिनेशन जीतकर उनके क्यूटनेस पर चार चंद लगा दिया।

आज Sunny Pawar भारत में किसी स्टार की तरह देखे जाते है। अब सनी की ख़्वाहिश भारत में एक्टिंग करने की है। वैसे उन्हें कृष फिल्म सबसे अच्छी लगती है और WWF भी देखना भी उन्हें काफी पसंद है। Lion फिल्म करने से पहले कभी भी सनी ने कोई हॉलीवुड फिल्म नहीं देखी।

You might also like More from author

Comments

Loading...